SEO क्या है और Search Engine Optimization कैसे करते हैं? (पूरी जानकारी हिंदी में)

SEO क्या है और SEO Kaise Kare: दोस्तों जैसा कि हम सभी जानते हैं, आजकल हर इंसान के पास मोबाइल फोन उपलब्ध है हम हर काम के लिए अपने फोन पर निर्भर करते हैं। और हमारे फोन के माध्यम से ही हम कोई भी काम चुटकियों में कर सकते हैं, फिर चाहे वह बिजली का बिल भरना हो या कोई भी रिचार्ज करवाना हो। हमें घंटे भर कतारों में खड़े रहने की जरूरत नहीं है। और दोस्तो यह सब संभव हो पाया है, तो केवल इंटरनेट की वजह से। इंटरनेट ने ना केवल हमारे जीवन को आसान बनाया है, बल्कि इस पर कोई भी जानकारी मिलना बहुत ही आसान हो गया है।

हमें किसी भी चीज की जानकारी लेने के लिए इधर-उधर भटकने की जरूरत नहीं पड़ती हमें जरूरत पड़ती है केवल हमारे मोबाइल फोन की और उसमें इंटरनेट कनेक्शन की। इंटरनेट की सहायता से हम अपने हर कंफ्यूजन को आसानी से दूर कर सकते हैं। हमें अगर किसी भी चीज को लेकर कोई शंका या कोई डाउट है, तो हम उसे गूगल पर सर्च कर सकते हैं। गूगल पर सर्च करते ही हमें ढेरों वेबसाइट मिल जाएंगे, जिस में से किसी एक पर क्लिक करके हम हमारी समस्या का हल ढूंढ सकते हैं। लेकिन दोस्तों क्या आप जानते हैं, कि हमारे इस काम को चुटकियों का काम बनाने के पीछे एक बहुत बड़ी प्रक्रिया होती है।

जी हाँ!! जब भी हम इंटरनेट पर कोई चीज सर्च करते हैं तो वह हमारे लिए केवल चंद सेकेंड का काम होता है। लेकिन, दोस्तों इसके पीछे कई सारी चीजें होती हैं जिसके वजह से हम तक हमारे काम की जानकारी पहुंचती है। और यही चीज जो हमारे काम को अति सरल बना देती है , उसी का नाम है SEO यानी कि search engine optimization. लेकिन अब आप सोच रहे होंगे की SEO क्या है और Search Engine Optimization कैसे करते हैं?

दोस्तों अगर search engine optimisation का हिंदी में अनुवाद करें, तो होगा खोज इंजन अनुकूलन। जैसा कि आपको नाम से ही समझ में आ रहा होगा की SEO सर्च इंजन से संबंधित है। दोस्तों सर्च इंजन का नाम जबान पर आते ही सबसे पहला नाम आता है गूगल (google) का । गूगल जैसे दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी भी SEO के माध्यम से ही संचालित होती है। तो आइए आज के इस आर्टिकल में हम संक्षेप से जाने की SEO क्या है और Search engine optimization किसे कहते हैं

Contents show

SEO क्या है और Search Engine Optimization कैसे करते हैं?

seo kya hai kaise kare hindi

तो SEO क्या है? Search engine optimization hindi आज कल बहुत ज़्यादा प्रचलित है, और वास्तव में इसके बारे में कुछ भी रहस्यमय नहीं है। आपने SEO के बारे तो में बहुत कुछ सुना होगा और SEO कैसे काम करता है, लेकिन मूल रूप से यह एक औसत दर्जे की, दोहराई जाने वाली प्रक्रिया है। जिसका उपयोग सर्च इंजनों को संकेत भेजने के लिए किया जाता है। जो आपके Google page के list में दिखाने लायक हैं।

मूल रूप से Google एक जटिल गणितीय सूत्र (algorithm) का उपयोग करता है, जिसे एक एल्गोरिथम ( algorithm ) कहा जाता है, जो प्रत्येक वेबसाइट और प्रत्येक खोज करने वालों को Google में यह पता लगाने के लिए देता है, कि किस वेबसाइट को उन लोगों के लिए सर्वोत्तम रैंक चाहिए जो लोग खोज रहे हैं।

एल्गोरिथ्म को आप अपने report Card के संग्रह की तरह समझें एक नंबर आपको आपकी साइट की गुणवत्ता के लिए देती है, आपका काम किसी अन्य वेबसाइट की तुलना में एल्गोरिदम में अधिक नंबर लेना है आप अपनी साइट की गुणवत्ता के मामले में उच्चतम स्कोर होने के कारण अपनी खोज इंजन रैंकिंग को प्रभावित कर सकते हैं।

अपनी वेबसाइट के अधिकार के मामले में high स्कोर रखने के लिए, उस SEO के लिए सबसे भरोसेमंद स्टोर में उच्चतम स्कोर लाने की कोशिश कर रहे हैं। अच्छी बात तो यह है कि सैकड़ों अंक हैं, और इनमें से हर एक website के लिए इन अंकों को एल्गोरिथम में एक साथ रखा गया है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि आपके पास यह रैंक और अच्छे अंक लाने की काबिलियत है । इसलिए खोज परिणामों के लिए अपनी साइट का अनुकूलन करने का मतलब वास्तव में इन अंकों में से सबसे अधिक अंक प्राप्त करना है जितना आप कर सकते हैं।

यदि तकनीकी भाषा में कहें तो Search engine optimization ( SEO ) website traffic की गुणवत्ता और मात्रा में सुधार या Search engine से एक वेब पेज की प्रक्रिया है। SEO प्रत्यक्ष traffic या भुगतान किए गए traffic के बजाय अवैतनिक ट्रैफ़िक (“प्राकृतिक” या “ऑर्गेनिक” परिणामों के रूप में जाना जाता है) को लक्षित करता है। ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक विभिन्न प्रकार की search से उत्पन्न हो सकता है, जिसमें Image  Search, Video search, education Search,  समाचार Search और उद्योग-विशिष्ट ऊर्ध्वाधर Search engine शामिल हैं।

एक Internet marketing planning के रूप में SEO मानता है, कि खोज इंजन कैसे काम करते हैं, कंप्यूटर-प्रोग्राम किए गए algorithm जो खोज इंजन व्यवहार को निर्धारित करते हैं की लोग क्या खोजते हैं , वास्तविक खोज शब्द या कीवर्ड Search engine में टाइप किए जाते हैं और कौन से Search engine उनके लक्षित दर्शकों द्वारा पसंद किए जाते हैं।

SEO इसलिए किया जाता है क्योंकि जब कोई वेबसाइट Search engine रिजल्ट पेज (SERP) में ज्यादा रैंक लाती है, तो वेबसाइट को Search engine से ज्यादा visitor मिलेंगे । इन visitors को फिर संभावित रूप से ग्राहकों में परिवर्तित किया जा सकता है। तो अगर आपकी websites पर ग्राहकों या viewers की कमी होती नज़र आ रही है, तो आपको जरूरत है यह जानने की कि SEO क्या है और Search Engine Optimization कैसे करते हैं?

एसईओ के प्रकार (Types of SEO)

types of seo in hindi

तो जैसा की अब आप जान चुके है, की SEO क्या है इसलिए चलिए अब जानते है, की, SEO कितने प्रकार के होते है। तो दोस्तो मै बता दूँ कि मुख्य रूप से SEO के दो प्रकार हैं।

  • On Page SEO
  • Off Page SEO

जिन कारकों और तकनीकों पर आपको SEO page पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए वे हैं, सही keyword खोजना जिसमें कम competitionऔर उच्च organic traffic हो। अच्छी तरह से जानकारीपूर्ण लेख लिखना जो पाठक को कुछ मूल्य प्रदान करें। लेखों के लिए दिलचस्प और खोजशब्द लक्षित ( keyword oriented ) शीर्षक चुनना । सामग्री में उच्च पठनीयता और उचित शीर्षक होने चाहिए ।

On Page SEO क्या होता है

On Page SEO kya hai

On Page SEO उपयोगकर्ता-मित्रता, प्राधिकरण, प्रासंगिकता और इंटरफ़ेस के संदर्भ में पृष्ठ के अनुकूलन से संबंधित है। On Page SEO में हम heading tag, keyword insertion, LSI keyword, interlinking, image, alt tag जैसे उचित फॉर्मेटिंग करके कंटेंट को ऑप्टिमाइज़ करते हैं, पेज लोड टाइम को कम करते हैं।

On Page SEO कैसे करें

जब आपको यहां कुछ ऐसे तरीके बताएंगे जिसकी मदद से आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर On Page SEO को अच्छी तरह से कर सकेंगे इससे आपके ब्लॉग को सफल होने काफी सहायता मिलेगी।

Website Navigation 

Website की नेविगेशन बहुत जरूरी चीज है की मदद से आप अपने Website या ब्लॉग पर आसानी से इधर उधर जा सकते हैं आज का तरीका इतना आसान रखना चाहिए की विजिटर्स को एक पेज से दूसरे पेज पर जाने में किसी भी समस्या का सामना ना करना पड़े।

 Website speed 

वेबसाइट स्पीड एक बहुत ही जरूरी चीज है एक सर्वे के के मुताबिक इस बात की पुष्टि की गई कि ज्यादा से ज्यादा केवल 5 से 6 सेकंड किसी वेबसाइट या ब्लॉग पर रहते हैं और अगर इसके अंदर जब कोई वेबसाइट या ब्लॉग सही तरीके से नहीं खुल पाता तो वह आपके ब्लॉग को छोड़कर किसी दूसरे वेबसाइट पर चले जाते हैं और  इसलिए अगर वेबसाइट या ब्लॉग जल्दी नहीं खुलता है तो एक नेविगेशन गूगल के पास पहुंच जाता है कि आपका ब्लॉग उतना अच्छा नहीं है या फास्ट नहीं है इसी वजह से जितना हो सके अपनी वेबसाइट की स्पीड अच्छी रखनी चाहिए।

Heading   

Heading Tags विशेष रूप से H2 और H3 का उचित उपयोग किया जाना चाहिए क्योंकि एक आर्टिकल में हेडिंग का सबसे महत्व इंपैक्ट पड़ता है यदि आप सही तरीके से Sub heading, focas Keyword का इस्तेमाल करेंगे तो आपका आर्टिकल ज्यादा अट्रैक्टिव दिखेगा जोकि यूजर को पसंद आएगा।

Keyword

अभी अभी बात करें कि Keyword की तो एक आर्टिकल में सही तरीके से Keyword का इस्तेमाल होना जरूरी है जैसे कि आप लिखते समय  LSI Keyword का इस्तेमाल कर सकते हैं इससे आप सर्च को आसानी से खोज सकते हैं और साथ ही इंपॉर्टेंट Keyword को बोल्ड कर सकते हैं जिससे गूगल विजिटर्स को यह पता चल सके कि आप कल जरूरी keyword क्या है और यह दिखने में कुछ ज्यादा अच्छा भी लगता है।

Content 

एक अच्छा Content बनाने में काफी मेहनत करनी होती है खासकर आपका Content किसी दूसरे Content के साथ copy नहीं होना चाहिए गलती से भी ऐसा होता है तो आपके वेबसाइट को block कर दिया जाएगा और सबसे महत्वपूर्ण बात कि आपका content 800 word  से नीचे नहीं होना चाहिए।

Internal Link

यदि आप अपने साइट को रंग करवाना चाहते हैं तो आपको अपने रिलेटेड पेजेस को एक दूसरे से Interlinking करना जरूरी है। इससे आपका पोस्ट जल्दी रैंक करेगा।

URL

ध्यान रहे कभी भी अपनी वेबसाइट का URL ज्यादा बड़ा नहीं लिखना चाहिए हमेशा अपने अपलोड किए गए पोस्ट का URL बिल्कुल सिंपल और छोटा रहना चाहिए ताकि कोई भी समस्या उत्पन्न ना हो सके।

Tag

ध्यान रहे अपने वेबसाइट पर लिखे गए सभी पोस्ट पर images का इस्तेमाल जरूर करें क्योंकि images आपकी वेबसाइट पर ज्यादा से ज्यादा traffic लाने में सहायता करेगी और इसी वजह से इमेजेस का इस्तेमाल करते समय Alt tag लगाना कभी नहीं भूलना चाहिए।

Off page SEO क्या होता है

Off page SEO kya hai

Off page SEO में हम कुछ नाम करने के लिए banklinks, social sharing, infographic, video, link building, submission, bookmarking और classified बनाकर अपनी सामग्री को अधिक आधिकारिक बनाकर शुरू करते हैं।

Off Page SEO कैसे करें

Bookmarking

क्या इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अपने ब्लॉग वेबसाइट के पोस्ट को Bookmarking वाली वेबसाइट में ही सबमिट करें जिससे ब्लॉग को काफी फायदा मिलता है और ब्लॉग की सर्च रैंकिंग बहुत तेजी से बढती है।

Guest Post

अब इस विधि का भी इस्तेमाल कर सकते हैं यानी कि अपनी वेबसाइट से रिलेटेड ब्लॉग पर जाकर गेस्ट पोस्ट कर सकते हैं अगर आप हमारे ब्लॉग यानी nkmonitor.com से backlink लेना चाहते हैं तो आप मुझे दिए गए email पर संपर्क कर सकते हैं और यहां सबसे अच्छी बात यह है कि आप यहां से dofollow backlink ले सकते हैं और वह भी बिल्कुल सही तरीके से।

Blog Commenting

यहां आपको अपने वेबसाइट या ब्लॉग से संबंधित ब्लॉग पर जाकर उनके पोस्ट पर कमेंट करने हैं और वहां आप अपनी वेबसाइट का लिंक डाल सकते हैं और यह ध्यान रखें कि आपको वही लगानी है जहां वेबसाइट लिखा होता है।

Commenting on Q&A site

इस काम के लिए सबसे अच्छा तरीका है, कि आपको साइट पर जाकर अपना लिंक डालें जहाँ लोग सवाल जवाब करते हैं यानी कि एक Question & Answer वेबसाइट पर आप जाकर अपने पसंद का कोई भी सवाल करने के बाद वहां अपनी साइट का link लगा सकते हैं और अगर आपके मन में कोई सवाल है तो वो भी आप आसानी से पूछ सकते हैं और लोगों के सवालों का जवाब देकर उनको अपने ब्लॉग पर invite कर सकते हैं इससे आपके ब्लॉग का ट्रैफिक तो बढेगा ही और साथ ही लोगों के बीच फेमस भी होगा।

Pin

आप अपने वेबसाइट पर अपलोड किए गए images को Pinterest पर भी पोस्ट कर सकते हैं क्योंकि pinterest इतनी बड़ी वेबसाइट है कि आप सोच भी नहीं सकते कि यहाँ से आपको कितना ज्यादा फायदा होगा और कितना ज्यादा ट्रैफिक आपके ब्लॉग पर आएगा इससे आपकी वेबसाइट का traffic increase करने में बहुत ज्यादा मदद मिलेगी और यह सबसे आसान और बेहतर तरीका है, अपनी वेबसाइट को आगे ले जाने का क्योंकि आज के टाइम में ज्यादातर ब्लॉगर इस वेबसाइट से सबसे ज्यादा ट्रैफिक पा रहे हैं और अच्छी खासी कमाई भी कर रहे हैं इसलिए मेरा सुझाव है कि आप pinterest का फायदा ज़रूर लें क्योंकि यहाँ बिलकुल फ्री में आपके ब्लॉग पे ट्रैफिक आएगा।

SEO Techniques

SEO तकनीक इस प्रकार की होती हैं – 

  • White hat SEO ( वाइट हैट एसईओ )
  • Black hat SEO ( ब्लैक हैट एसईओ )
  • Grey hat SEO ( ग्रे हैट एसईओ )

White hat SEO (वाइट हैट एसईओ)

जैसा कि नाम से पता चलता है कि यह एसईओ तकनीक खोज इंजन दिशानिर्देशों ( guidelines ) और नीतियों ( rules ) का पालन करके सामग्री के अनुकूलन में सौदा करती है ।

इस तकनीक के उपयोग से परिणाम थोड़ा देर से आ सकते हैं, लेकिन वे लंबे समय तक चलने वाले होते हैं और वे आपकी साइट को Search engine द्वारा दंडित नहीं करते हैं, फिर से रैंकिंग में सुधार करते हैं ।

Black hat SEO (ब्लैक हैट एसईओ)

इस SEO तकनीक में, हम अपनी रैंकिंग को बढ़ावा देने के लिए ‘शॉर्टकट’ के रूप में कॉल करते हैं। सबसे पहले, यह रैंकिंग के लिए और सामान्य दीर्घकालिक (general long-term ) रैंकिंग में एक सही तकनीक नहीं है। यह Search engine द्वारा साइट को दंडित किए जाने की संभावना को बढ़ाता है ।

जब भी कोई नया एल्गोरिथ्म अपडेट जारी करता है, तो इस तकनीक का उपयोग करके अपनी साइट की रैंकिंग में भारी गिरावट देखना सुनिश्चित होती है ।

Grey hat SEO (ग्रे हैट एसईओ)

यह इस तरह का एक SEO है, जो न तो काला है और न ही सफेद है । यह एक ऐसी तकनीक है जो पूरी तरह से ब्लैक हैट एसईओ का उपयोग नहीं करती है और दोनों को जोड़ती है। यह काले से सफेद और सफेद से काले रंग में परिवर्तन है। चाहे वह वेबसाइट या कंपनी के दबाव के कारण हो या बेहतर परिणाम देने के लिए , कुछ एसईओ कंपनियां कुछ हद तक ग्रे हैट एसईओ का अभ्यास कर सकती हैं। वे ब्लैक हैट एसईओ के लिए लाइन पार नहीं कर सकते हैं।

इस SEO तकनीक में , हम अपनी वेबसाइट को रैंक करने के लिए व्हाइट हैट और ब्लैक तकनीक दोनों का उपयोग करते हैं । यहां, बेहतर समझ के लिए सामान्य आम भाषा में SEO का संक्षिप्त जानकारी था ।

SEO और डिजिटल मार्केटिंग बहुत विविध क्षेत्र है जिसमें बहुत सारे अवसर हैं। यदि आप नए अवसरों के का इन्तज़ार कर रहे हैं, या लगातार सीख रहे हैं और रास्ते में चुनौतियों का स्वागत करते हैं, तो यह क्षेत्र निश्चित रूप से आपके लिए है।

Blog के लिए SEO क्यों जरूरी है (importance of seo in hindi)

दोस्तों SEO blogging का ही एक अभिन्न अंग है । SEO Blog में traffic लाने में मदद करता है। मतलब कि SEO आपके Blog के लिए ज़्यादा से ज़्यादा और नए viewers लाने की कोशिश करता है । Blog post लिखने का कोई फायदा नहीं है, अगर वे पाठकों तक नहीं पहुंच रहे हैं और SEO आपके ब्लॉग पर ट्रैफ़िक को SEO करने में मदद करते हैं। SEO वास्तव में ब्लॉगिंग के लिए बहुत ही फायदेमंद है । यदि आप इस field में काम कर रहे हैं, तो SEO एक अनिवार्य तकनीक है  जिसे आपको अपनी वेबसाइट पर पाठकों का ध्यान खींचने के लिए अनुसरण करने में मदद करती है। 

ब्लॉगिंग वेबसाइट में, आप सभी को सामग्री पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता होती है। हमेशा सुनिश्चित करें कि आपकी सामग्री मजबूत और अद्वितीय (unique) होनी चाहिए। Google सामग्री की प्रतिलिपि बनाई ( copied ) और crawled को रैंक  नहीं करता है। इसलिए अपनी content को इतना मजबूत बनाने का प्रयास करें, कि वह Google SERP में अच्छी तरह से रैंक कर ले। दूसरी महत्वपूर्ण बात शीर्षक यानी heading है।  बहुत सारे उपयोगकर्ता पहले ब्लॉग के शीर्षक को नोटिस करते हैं।

शीर्षक इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि पढ़ने के बाद उन्हीं लोगों को ब्लॉग का मतलब पता चलता है या जो ब्लॉग के बारे में जानते हैं , वही सब होता है । इसके विपरीत यदि आप शीर्षक को जटिल रखते हैं, तो पाठक के लिए इसका अर्थ निकालना मुश्किल हो जाएगा और वह आपके ब्लॉग के आगे के हिस्से को नहीं पढ़ेगा। लेकिन अगर आप भी अपने blogging के कैरियर को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आपको यह मालूम होना चाहिए कि आखिर SEO क्या है और search engine optimization किसे कहते हैं।

यह कभी न भूलें कि blogging और SEO एक सतत सीखने की प्रक्रिया है। एक सफल ब्लॉग को चलाते समय बहुत सी बातों का ध्यान रखना पड़ता है। जिससे उसे हर समय सही रखना असंभव हो जाता है । गलतियों को करना या कुछ सर्वोत्तम प्रथाओं को छोड़ना सामान्य है, लेकिन यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप अपनी गलतियों से सीखें और अपने अगले ब्लॉग को बेहतर बनाएं।

SEO और SEM में क्या अन्तर है 

हमने यह तो लगभग जान ही लिया है, कि SEO क्या है और search engine optimization कैसे करते हैं लेकिन इन दोनों में अंतर जानने से पहले हमें जानना होगा कि आखिर SEM क्या है 

SEM का full form होता है search engine marketing। SEM ( search engine marketing) एक paragliding अवधारणा है। जिसका उपयोग paid या unpaid search strategy  के लिए किया जाता है, जिसमें कंपनी खोज परिणामों में अपने विज्ञापनों को शामिल करने के लिए Search engine का भुगतान करती है। उनको पैसे देती है। SEM Search शुल्क ( प्रति क्लिक मूल्य या प्रति क्लिक भुगतान ) और organic SEO शामिल करता है। 

मार्केटर्स प्रचार अभियान के लिए कंपनी द्वारा उपयोग किए जाने वाले सबसे प्रभावी keyword को निर्धारित करने के लिए पूर्व Search engine query आंकड़ों का विश्लेषण करते हैं। keyword मूल भाग हैं, जो विज्ञापन के लिए एक रणनीति के रूप में खोज इंजन के strategy का आधार बनाते हैं। इसीलिए, SEM अभियानों के लिए keyword चुनने से पहले, बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए keyword प्रबंधन रणनीति के हिस्से के रूप में व्यापक शोध करना आवश्यक है। SEM में, विज्ञापन SERPs में ऑर्गेनिक लिस्टिंग के पास दिखाई देते हैं, जिससे कंपनी को अपनी वेबसाइट की दृश्यता और ads बढ़ाने का अवसर मिलता है ।

  • SEM, SEO की तुलना में एक व्यापक शब्द है, और इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के विकल्पों को शामिल करने के लिए किया जाता है, जिसमें भुगतान किए गए विज्ञापनों सहित Search engine की तकनीक का उपयोग किया जाता है। SEM का उपयोग अक्सर खोज इंजन के भीतर एक वेबसाइट पर शोध , प्रस्तुत करने और स्थिति से जुड़े कार्यों का वर्णन करने के लिए किया जाता है। इसमें Search engine optimization, paid listing और अन्य सर्च-इंजन से संबंधित सेवाएं और फ़ंक्शंस शामिल हैं, जो आपके वेब पर एक्सपोज़र और ट्रैफ़िक बढ़ाएंगे।

 

  • SEM आपको क्लिक के आधार पर भुगतान करने का अवसर प्रदान करता है (आप विज्ञापन के माध्यम से अपनी वेबसाइट या लैंडिंग पृष्ठ पर प्रत्येक क्लिक के लिए भुगतान करते हैं ) । एक सफल SEM अभियान में विज्ञापन उन उपभोक्ताओं को दिखाए जाएंगे जो विशेष रूप से आपके उत्पादों या सेवाओं की तलाश कर रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप आपको एक higher conversation दर मिलेगा।

 

  • SEM SEO की तुलना में एक बड़ा शब्द है। जहां SEO का उद्देश्य बेहतर जैविक खोज परिणाम प्रदान करना है, SEM इंटरनेट ग्राहकों के लिए आपकी वेबसाइट या व्यवसाय का विज्ञापन करने के लिए खोज इंजन का उपयोग करता है और आपकी वेब साइट पर अधिक लक्षित ट्रैफ़िक ( aimed / targeted traffic )भेजता है।

 

  • उदाहरण के लिए, जब लोग ” सर्वश्रेष्ठ मोबाइल मूल्य तुलना साइट ” की खोज करने के लिए एक खोज इंजन का उपयोग करते हैं तो carbonic search engine program वह होता है जहां SEO प्रौद्योगिकियां आपकी वेबसाइट को अधिक visible होने में सहायता कर सकती हैं। सशुल्क विज्ञापन, या प्रायोजित लिंक वे हैं जिन्हें कार्बनिक खोज परिणामों के ऊपर या बगल में प्रदर्शित किया जाता है जो SEM का एक उत्पाद है।

 

  • SEO और SEM प्रतिस्पर्धी सेवाएं ( competetive services ) हैं। SEO को SEM सेवाओं का सबसेट माना जाता है । यदि आप इंटरनेट पर व्यवसाय का संचालन करना चाहते हैं , तो आपको ऑर्गेनिक और विज्ञापित दोनों लिंक में दिखाई देने की आवश्यकता है , जिसका अर्थ है कि एक छोटे व्यवसाय के लिए SEO और SEM दोनों की आवश्यकता है।

Organic results क्या होते हैं

Organic SEO

यह Search engine के लिए कोई राशि का भुगतान किए बिना SERP (Search engine result page ) में Top Ranking प्राप्त करने का एक स्वभाविक तरीका है। यह SERP पर उच्च रैंक हासिल करने का अधिक बेहतर और भरोसेमंद तरीका है।

Organic search engine optimization के लाभ

  • आमतौर पर सामान्य रूप से अनुकूलित साइटों पर सामान्य users  के क्लिक अधिक होते हैं। Search engine result page पर result लंबे समय तक चलने वाले होते हैं ।
  • Organic result, Inorganic result की तुलना में अधिक भरोसेमंद हैं ।
  • Inorganic सेवाओं की तुलना में जैविक सेवा सस्ती है ।

Organic/natural परिणाम प्राप्त करने के तरीके

  • Keyword
  • content optimization
  • Site Promotions
  • Meta Content Optimization
  • Image Optimization
  • URL Optimization

इत्यादि का अच्छी तरह से विश्लेषण करें।

inorganic results क्या होते हैं

 Inorganic result

इसमें आमतौर पर PPC – Pay Per Click, CPC – Cost Per Click , CPA – Cost Per Acquisition, बैनर विज्ञापन , क्लासीफाइड आदि जैसी शुल्क सेवाएँ शामिल हैं । यह सेवा बहुत महंगी है । लेकिन जो लोग तत्काल परिणाम चाहते हैं, वे लोग inorganic SEO के लिए जा सकते हैं । 

In organic search engine optimisation के लाभ

  • कम Time में result
  • साइट अधिक दृश्यता ( views )  प्राप्त करती है
  • Short time में अधिक ट्रैफ़िक
  • Organic SEO के विपरीत, Inorganic SEO बहुत कम समय में Best result प्राप्त करता है।
  • Inorganic SEO तकनीक काफी जोखिम भरा है।

चूंकि इसकी cost क्लिकों के अनुसार गिनी जाएगी इसलिए  वेबमास्टर को Competitor से सतर्क रहना चाहिए , वे आपकी साइट पर अनावश्यक रूप से click करके आपको अधिक भुगतान करने के लिए मजबूर कर सकते हैं । इसलिए उन Users को Block करना ही एक समाधान है, लेकिन इसके लिए आपको पता होना चाहिए कि उन्होंने आपको अनावश्यक रूप से क्लिक किया है।

SEO कैसे काम करता है 

Google जैसे Search engine का एक जटिल और मुश्किल कार्य है । वे किसी Search engine users  को सबसे अच्छा संभव अनुभव देना चाहते हैं,  जब कोई व्यक्ति किसी special words को Search करता है, तो उपयोगकर्ता को वास्तव में वह ढूंढना चाहिए, जो वह खोज रहा है या नहीं और ऐसा कुछ नहीं है । वे ऐसी वेबसाइटें दिखाते हैं , जो keyword के लिए प्रासंगिक और महत्वपूर्ण हैं ।

 Web pages के कई अरबों में से एक Search engine को खोज के इरादे का सर्वोत्तम संभव उत्तर देना होगा । यदि लोग अपने खोज अभिप्रायों के लिए खोज इंजन के उत्तरों से संतुष्ट हैं,  तो वे इस Search engine का उपयोग करना जारी रखेंगे ।

Google search कैसे काम करती है

तो चलिए अब हम जानते है, की  Google Search कैसे काम करती है। Google Search में  महत्वूर्ण 200 factors होते है। लेकिन मैं यहाँ केवल 3 मूल मापदंडों का ही ज़िक्र करने जा रहा हूं। जिन्हें Google Search result  दिखाने के लिए मानता है । 

  • Relevancy (प्रासंगिकता)
  • Popularity (लोकप्रियता)
  • Link relevancy (लिंक प्रासंगिकता)

आइये अब आपको इन तीनों factors के बारे में detail में बताते हैं

Relevancy  (प्रासंगिकता)

मैं इसे आपको एक उदाहरण के साथ समझाऊंगा।  उदाहरण के लिए यदि मैं Google पर ” बैंक ” खोजता हूं तो कुछ परिणाम दिखाई देंगे। Top 10 search  result की जाँच करें। आपको हर 10 search  result में बैंक या बैंकिंग से संबंधित जानकारी मिलेगी।

Google search क्वेरी के अनुसार वेब पेज की प्रासंगिकता पर विचार करता है। यदि वेब पेज खोज क्वेरी के लिए अधिक प्रासंगिक है, तो Google उन वेब पेजों को खोज परिणाम पर दिखाएगा ।

Popularity (लोकप्रियता)

लोकप्रियता को अन्य वेब मास्टरों द्वारा उस special pages को दिए गए Backlinks की संख्या के रूप में परिभाषित किया गया है। यदि एक वेब पेज में 1000 Backlinks हैं और एक में 150 Backlinks हैं, तो गूगल ज़्यादा Backlinks वाले वेब पेज के Backlinks की जांच करेगा। इसके बाद Google search result में वेब पेज को रैंक करेगा ।

Link relevancy (लिंक प्रासंगिकता)

Google link की प्रासंगिकता पर भी विचार करता है। उदाहरण के लिए यदि आपको हजारों बैकलिंक्स मिल रहे हैं और वे आपके पेज से संबंधित या प्रासंगिक नहीं हैं तो Google आपको Top result में rank नहीं करेगा।

Google search result को दिखाने के दौरान लिंक की प्रासंगिकता पर भी विचार करता है। यदि वेब पेज लिंक क्वेरी खोजने के लिए अधिक प्रासंगिक है, लेकिन इसमें कुछ बैकलिंक हैं तो फिर भी , Google इसे शीर्ष परिणामों में दिखाएगा, क्योंकि यह लिंक क्वेरी से संबंधित अधिक जानकारी और उत्तर दे रहा है ।

SEO कैसे सीखें (Learn seo in hindi)

एक शुरुआत के रूप में , SEO के बारे में सीखने के लिए ऑनलाइन कई संसाधन हैं। SEO विशेषज्ञ के रूप में अपना content बेचने वाले कुछ ब्लॉग या लोग हो सकते हैं। आपको इन प्लेटफार्मों के बारे में सतर्क रहना चाहिए और समीक्षाओं और अपने सामान्य ज्ञान के आधार पर इन प्लेटफार्मों का चयन करना चाहिए। नीचे SEO पर कुछ ज्ञान प्राप्त करने के लिए कुछ विश्वसनीय platform  दिए गए हैं  –

  • Google Webmaster Central Blog
  • The SEM Post
  • Stone Temple Digital Marketing 
  • Excellence Blog
  • GSQi Blog

यदि आप SEO कौशल में अधिक पेशेवर और कुशल होना चाहते हैं और एक प्रमाण पत्र चाहते हैं जो आपकी विश्वसनीयता में Add होगा, तो मैं आपको सुझाव दूंगा, कि आप SEO के लिए एक ऑनलाइन कोर्स करना चाहिए।

SEO के फ़ायदे (Benifit of seo in hindi)

जब आपको अपने व्यवसाय को बढ़ावा देने की आवश्यकता होती है, तो आप search engine optimization को देख सकते हैं। जब आप ऐसा करने का निर्णय लेते हैं, तो आपको एक professional व्यक्ति खोजने की आवश्यकता होगी। जो आपके जैसे लोगों को उनके व्यवसाय के साथ सफल बनने में मदद करे।

  • SEO सेवाएं न केवल सस्ती हैं , बल्कि प्रभावी भी हैं । ऐसा इसलिए क्योंकि एक पेशेवर सेवा प्रदाता की वेबसाइट में ऐसे उपकरण हैं, जो यह सुनिश्चित करेंगे कि आपकी वेबसाइट Search engine के लिए ठीक से अनुकूलित हो।

 

  • Search Engine optimization का एक बड़ा फायदा यह है, कि आपकी वेबसाइट कई उपयोगकर्ताओं द्वारा देखी जाएगी,  जो आपके व्यवसाय के प्रकार के बारे में जानकारी तलाश्ते हैं । ये वेब उपयोगकर्ता वे हैं, जो आपकी वेबसाइट पर जाएंगे और आपकी सामग्री या आपके content को पढ़ेंगे । Search engine आपकी वेबसाइट को एक Top level Domain ( TLD) के रूप में देखेंगा।  जिसका अर्थ है, कि यह search  engine का बहुत अधिक ध्यान रखता है ।

 

  • SEO आपके व्यवसाय को कई तरह से लाभ पहुँचा सकता है जैसे ऑनलाइन ब्रांडिंग , बिक्री, उपयोगकर्ता के अनुकूल वेबसाइट, रूपांतरण में वृद्धि, बायपास प्रतियोगिता, वेबसाइट रैंकिंग, आदि । इसके अलावा जब आपकी वेबसाइट SEO  के कारण खोज परिणामों में अधिक दिखाई देती है, तो आपके SEO द्वारा व्यापार को लाभ होता है। 

 

  • संभावित ग्राहकों से जुड़ने के अवसर बढ़ाना। SEO के साथ, आपको अपने ब्रांड की कहानी बताने और अपने उत्पादों या सेवाओं को सही दर्शकों के साथ जोड़ने के लिए महत्वपूर्ण अवसर दिए जाते हैं । मजबूत तकनीकों को लागू करने से , SEO आपकी कंपनी के बारे में ग्राहकों की जागरूकता बढ़ाकर व्यापार को लाभान्वित करता है।

SEO के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

यदि आपके पास खुद का कोई ब्लॉग या वेबसाइट है, तो मुझे उम्मीद है, की आपको Basic SEO के बारे में जानकारी होगी। लेकिन अभी भी आपको बहुत सी ऐसी SEO से संबंधित जानकारियां हो सकता है ना पता हो। इसलिए आज हम यहां ऐसी ही, कुछ बेहद महत्वपूर्ण जानकारियां आपके साथ साझा करने वाला हूं, इसलिए जरा ध्यान से पढ़िए, क्योंकि यह महत्वपूर्ण जानकारी आपके ब्लॉग या वेबसाइट को रैंक कराने में काफी मददगार साबित हो सकती है।

  • Google search algorithm जिसकी मदद से आप इस बात का पता लगा सकते हैं, कि इंटरनेट पर फिलहाल कौन से वेबपेज रेलीवेंट पर है। जहां  Google search algorithm में लगभग 200 algorithm काम करते हैं।

 

  • बता दूं, कि search engine result page केवल उन्हीं पर pages को show करता है, जो search engine के मुताबिक बिल्कुल सही हो।

 

  • Backlinks SEO के लिए बेहद महत्वपूर्ण चीज है। इसकी मदद से आप अपने पोस्ट को जल्दी ही रैंक करवा सकते हैं। यह तरह का Hyperlink भी होता है, जो दूसरे वेबसाइट में जाने का यानी कि आपके खुद के वेबसाइट के दूसरे Pages पर जाने का इशारा करते हैं।

 

  • Title tag एक वेबसाइट के लिए बेहद महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि यह Google search algorithm के लिए किसी भी वेबसाइट का Title होता।

 

  • वैसे तो यह बात सब जानते हैं, कि किसी भी SEO पोस्ट के लिए keyword density बेहद महत्वपूर्ण होती है। लेकिन अगर आप जरूरत से ज्यादा keyword का इस्तेमाल करते हैं, तो यह आपके website के लिए काफी नुकसानदेह हो सकता है और जरूरत से ज्यादा keyword को इस्तेमाल करना ही keyword Stuffing कहलाता है। इसके ज्यादा इस्तेमाल से आपका Blog पर गलत प्रभाव पड़ता है।

 

  • Algorithm को एक तरह का PageRank भी कहते हैं और इसका इस्तेमाल इस बात का अनुमान लगाने के लिए किया जाता है, कि web में कौन-कौन से Relevant Importent Pages मौजूद है।

 

  • यदि आपको नहीं पता तो बता दूँ, कि Title tag के जैसा ही Meta Tag होता है। Meta Tag का इस्तेमाल से search engine को वेबसाइट के पेज में लिखे हुए कंटेंट मे क्या मौजूद है इस बात का पता चलता है।

 

  • अपनी पोस्ट के हिसाब से Content में keyword density को रखना जरूरी है क्योंकि यदि आप अपने Content  में keyword की density कब रखते हैं तब भी आपका Content नहीं करेगा और यदि आप हद से ज्यादा keyword density रखते हैं तब भी आपका Content बिल्कुल बेकार हो जाएगा और वह search engine में रैंक करने लायक नहीं रहेगा।

Conclusion

SEO एक महत्वपूर्ण कारक बन गया है, जो किसी भी वेबसाइट को एक शीर्ष ब्रांड बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ऐसे में बहुत ज़रूरी होता है, कि हम जाने कि SEO क्या है और Search engine optimization किसे कहते हैं । ब्रांड की वेबसाइट पर शीर्ष पायदान SEO को लागू करना हमेशा उस ब्रांड के views  बढ़ाने के लिए फायदेमंद होगा। इन दिनों , ज़्यादातर associations वेब-आधारित प्रदर्शन के महत्व को समझ रहे है जैसे कि Digital Marketing, SEO, SEM.

तो दोस्तों इस आर्टिकल में हमने जाना कि SEO क्या है और SEO Kaise Kare बदलती दुनिया के साथ खुद में बदलाव लाना भी बहुत जरूरी होता है। और जरूरी है, कि हम तकनीकी दुनिया से परिचित होकर इसका लाभ उठाएं। अब आप भी अपने blogs या content के seo को ध्यान में रखकर ही बनाए और भरपूर traffic या crowd को invite करें।

आपको ये भी पढ़ना चाहिए:

ट्विटर पर followetr कैसे बढ़ाएं

फेसबुक अकाउंट डिलीट कैसे करते हैं

अपने नाम की रिंगटोन कैसे बनायें

YouTube विडियो डाउनलोड करने का सबसे अच्छा तरीका

Blogging से पैसे कैसे कमायें

2 thoughts on “SEO क्या है और Search Engine Optimization कैसे करते हैं? (पूरी जानकारी हिंदी में)”

Leave a Comment