वर्चुअल रिएलिटी क्या है और कैसे काम करता है?

Virtual Reality को समर्पित अपने लेख के शुरुआत में ही हम आपसे सीधे तौर पर पूछना चाहते है कि, क्या आपने What is Virtual Reality and How It Works? यानी वर्चुअल रिएलिटी क्या है और कैसे काम करता है? के बारें में जानते है या कभी इस तकनीक का अपने असल जीवन में प्रयोग किया है?

Virtual Reality kya hai

हम अनुमान लगा सकते है कि हमारे अधिकतर नियमित पाठको का जबाव ना ही होगा लेकिन साथ ही साथ आप इस नई तकनीक की जानकारी प्राप्त करने के लिए व्याकुल होंगे इसका अनुमान भी हम लगा सकते है.

इसीलिए हम, अपने इस लेख में आपको विस्तार से What is Virtual Reality? के साथ – साथ History of VR के बारे में विस्तार से बतायेगे ताकि आप सभी इस तकनीक का उपयोग कर इसका लाभ प्राप्त कर सकते है।

वर्चुअल रिएलिटी क्या है?

तेजी से बढ़ते इस आधुनिकीकरण के दौर पर में हम टेक्नोलॉजी की राह पर बहुत आगे निकल आये है और एक तरह से आभासी वास्तविकता की दुनिया अर्थात् Virtual Reality में प्रवेश कर जाते है इसलिए Virtual Reality क्या है बताने के लिए हम कुछ बिंदुओं की मदद लेंगे जो कि इस प्रकार से हें-

Virtual Reality Meaning

वर्चुअल रिएलिटी का अर्थ समझने के लिए हमें, सबसे पहले Virtual Reality के इन दोनो शब्दो के अर्थ को समझना होगा क्योंकि ये पूरी अवधारणा दो विशेष शब्दो पर आधारित है जो कि – Virtual+Reality पर आधारित है।

Virtual का अर्थ होता है आभासी या बनावटी अहसास और Reality का अर्थ होता है वास्तविकता या सच्चाई। इस प्रकार इन दोनो शब्दो के सफल योग से हम, Virtual Reality जैसी अवधारणा को प्राप्त करते है जिसका अर्थ निकलता है “आभासी वास्तविकता”

इस प्रकार Virtual Reality अर्थात् आभासी वास्तविकता वो वास्तविकता है जिसका असल में, कोई अस्तित्व नहीं होता है लेकिन हमें, उसकी मौजूदगी का पूरा प्रत्यक्ष अहसास होता है और इसे ही हम, आजकल की इन्टरनेट वाली दुनिया में, आभासी वास्तविकता अर्थात् Virtual Reality कहते है।

वर्चुअल रिएलिटी का मतलब

हम अपने सभी युवाओं व पाठको की जिज्ञासा अर्थात् What is Virtual Reality? का जबाव देते हुए आपको बताना चाहते है कि, वर्चुअल रिएलिटी अर्थात् Virtual Reality का शाब्दिक अर्थ “आभासी वास्तविकता” होता है।

इस आभासी वास्तविकता अर्थात् Virtual Reality के तहत हमारी महसूस करने की क्षमता में, वृद्धि की जाती है अर्थात् हमें जो भी दिखाई देता है या फिर सुनाई देता है असल जीवन में उसका कोई अस्तित्व नहीं होता है,

लेकिन फिर हम उसे प्रत्यक्ष तौर पर महूसस कर पाते है और खुद को रोमांचित करके चरम सुख की प्राप्ति कर पाते है और इसे ही वर्चुअल रिएलिटी अर्थात् Virtual Reality कहा जाता है।

History of VR

वर्चुअल रिएलिटी अर्थात् Virtual Reality को पूर्णत समर्पित अपने इस लेख में, हम, आपको कुछ संक्षिप्त बिंदुओं की मदद से History of VR अर्थात् वर्चुअल रिएलिटी के इतिहास की पूरी जानकारी प्रदान करेंगे जो कि, इस प्रकार से हैं –

  • Virtual Reality शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम साल 1987 में, जेरान लेलियर द्धारा किया गया था,
  • वर्चुअल रिएलिटी के तहत इंजीनियरिंग व अनुसंधान के क्षेत्र में, नये–नये उत्पादो के भारी उत्पादन पर प्रमुख बल दिया गया था.
  • Virtual Reality का विचार साल 1965 में, तब सामने आया था जब “Ivan Sutherland” द्धारा आभासी व Imaginary World के निर्माण हेतु अपने सुझाव व विचार प्रस्तुत किये थे.
  • ईवार सुथरलैंड ने, Virtual Reality के विकास को प्रोत्साहित करने के लिए साल 1969 में, Three Dimensional Display का निर्माण किया जिससे हम समर्पित भाव से Virtual Reality को महसूस कर पाते है.

Virtual Reality का प्रयोग

असल दुनिया के जबाव में टेक्नोलॉजी ने हमारे सामने Virtual Reality को लाकर खडा कर दिया है जिसका प्रयोग आजकल बडे पैमाने पर फिल्म देखने, गेल खेलने और साथ ही साथ अन्य कई चीजो में, प्रयोग किया जाता है जिससे ना केवल हमारे रोमांच को बढ़ाया जाता है बल्कि हमें, एक अभूतपूर्व अनुभव भी प्रदान किया जाता है।

उपरोक्त कुछ बिंदुओं की मदद से हमने आपको History of VR को प्रस्तुत करने का प्रयास किया है ताकि आप इस पूरी अवधारणा को सरलता व सहजता से समझ करे इसके प्रति अपनी समझ का विकास कर सकें।

अन्त उपरोक्त कुछ बिंदुओं की मदद से हमने आपको विस्तार से What is Virtual Reality? ।। वर्चुअल रिएलिटी क्या है? की जानकारी प्रदान की ताकि आप भी इस नई अवधारणा को बेहतर ढंग से समझ सकें।

वर्चुअल रिएलिटी काम कैसे करता है?

उपरोक्त जानकारी से आप इतना तो समझ ही गये होंगे कि, वर्चुअल रिएलिटी एक नकली और बनावटी अहसास है लेकिन How Virtual Reality Works? अर्थात् वर्चुअल रिएलिटी काम कैसे करता है? की जानकारी प्रदान करने के लिए हम, कुछ बिंदुओं की मदद लेंगे जो कि, इस प्रकार से हैं –

Direct VR Handset पर कैसे काम करता है?

हम, how does virtual reality work? के तहत आपको बता दें कि, अभी तक वर्चुअल रिएलिटी अर्थात् Virtual Reality का प्रयोग प्रमुख तौर पर वीडियो चलाने के लिए किया जाता है इसलिए हम, आपको बतायेगे कि- Virtual Reality, Direct VR Handset पर कैसे काम करता है?

  • Direct VR Handset के तहत एक Local Internet Network की मदद से अलग – अलग हैंडसेट्स पर Virtual Reality वाली वीडियोस भेजी जाती है,
  • इसके बाद Virtual Reality के प्रयोगकर्ता को एक विशेष अवस्था में, स्थापित कर दिया जाता है जिसके बाद आगे होने वाली सभी प्रक्रियाओं में, प्रयोगकर्ता को ऐसा एहसास होता है जैसे कि, सबकुछ वे अपने हाथो से कर रहे है, देख रहे, सुन रहे है और साथ ही साथ महसूस भी कर रही है।
  • इसी तकनीक की मदद से Virtual Reality का प्रयोग गेमिंग क्षेत्र को और भी अधिक रोमांचक और संवेदनशील बनाने के लिए किया जाता है जैसे कि – Racing Games, Fighting and Other Types of Gaming और
  • साथ ही साथ आजकल बड़े पैमाने पर Virtual Reality का प्रयोग Live Events में किया जाता है जिससे उसका रोमांच और बढ़ जाता है

आपकी मोबाइल स्क्रीन पर Virtual Reality कैसे काम करता है?

आजकल स्मार्टफोन और एंड्रायड फोन्स का प्रयोग बड़ी मात्रा मे किया जाता है और साथ ही साथ इसके साथ Virtual Reality का प्रयोग भी भारी मात्रा में किया जाता है जिसकी पूरी विधि इस प्रकार से हैं –

  • Virtual Reality का अपने मोबाइल की स्क्रीन पर प्रयोग करने के लिए विशेष प्रकार से VR Handsets Products का प्रयोग किया जाता है,
  • इन हैंडसेस्ट्स में, आपको मोबाइल को एक विशेष ढंग से स्थापित कर दिया जाता है और साथ ही साथ Virtual Reality की बढ़ती मांग को देखते हुए आजकल VR Earplugs का प्रयोग भी किया जाता है जिससे आपको Virtual Reality का 100 प्रतिशत अहसास हो पाता है और Virtual Reality की मदद से एक सुखद रोमांचक अनुभव प्राप्त कर पाते है।

उपरोक्त दोनो बिंदुओं की मदद से हमने आपको बताया कि, How Virtual Reality Works? : वर्चुअल रिएलिटी काम कैसे करता है? ताकि आप इसकी प्रयोग विधि की पूरी जानकारी प्राप्त कर सकें।

वर्चुअल रिएलिटी के प्रकार

Virtual Reality की लोकप्रियता को देखते हुए बाजार में, बड़े पैमाने पर अलग – अलग प्रकार के VR Handsets उपलब्ध है इस प्रकार बाजार में, उपलब्ध types of virtual reality हैंडसेस्ट्स इस प्रकार से हैं –

Google Cardboard

VR Handsets के तहत प्रमुख तौर पर Google Cardboard का प्रयोग किया जाता है जिसके तहत आप Virtual Reality का 100 प्रतिशत रोमांच प्राप्त कर सकते है और इसकी कीमत भी सिर्फ 200 रुपय है इस प्रकार इसकी मांग आज के बाजार में, काफी अधिक है।

Plastic VR Sets

वर्चुअल रिएलिटी के रोमांच को बढ़ाने व टिकाऊ बनाने के लिए आजकल Plastic VR Sets यानी प्लास्टिक वर्चुअल रिएलिटी सेट का प्रयोग किया जाता है तो आपको मांगो को वास्तविक मायनो में, पूरा करती है और बाजार में, इनकी कीमत भी सिर्फ 500 रुपय है जिसे आप आसानी से खरीद सकते है।

Gear VR Handset

उपभोक्ताओं की सुविधा और मांग को देखते हुए कई बड़ी बड़ी कम्पनियो द्धारा Gear VR Handset अर्थात गियर वर्चुअल रिएलिटी हैंडसेट को बाजार मे लांच किया जा रहा है जिनकी कीमत लगभग 10,000 रुपयो के आस पास होती है।

इन हैंडसेट्स की विशेषता ये होती है कि, उन्हें आप चश्में की तरह अपनी आंखो पर पहन सकते है जिससे ना केवल आप इसका प्रयोग आसानी व सहजता से कर पाते है बल्कि साथ ही साथ Virtual Reality का पूरा रोमांच भी प्राप्त कर पाते है।

उपरोक्त सभी वे उत्पाद है जो कि, ग्राहको व उपभोक्ताओं की Virtual Reality की बढ़ती मांग को देखते हुए लांच किये गये है जिसका प्रयोग करके आप भी Virtual Reality का एक बेहतर व रोमांचक अहसास प्राप्त कर सकते है।

Virtual Reality के लाभ व हानि

जिस प्रकार सभी वस्तुओं के लाभ होते है और हानियां होती है ठीक उसी प्रकार से Virtual Reality नामक इस आधुनिक तकनीक के जहां एक तरफ लाभ है तो वहीं दूसरी तरफ इसकी कुछ हानियां भी है जैसे कि –

Virtual Reality के लाभ कौन – कौन से है?

हम आपको कुछ बिंदुओं की मदद से Virtual Reality के लाभो के बारे में, बतायेंगे जो कि, इस प्रकार से हैं –

  • Virtual Reality, हमारी मनोरंजन और रोमांज की मांग को हमारी संतुष्टि के स्तर तक पूरा करती है,
  • इस तकनीक की मदद से हम, अहसास की एक नई आभासी दुनिया में, प्रवेश कर पाते है,
  • Virtual Reality के तहत सब कुछ इतना असली और वास्तविक लगता है कि, हमें महसूस होता है जैसे हम, असल में, उसे जी भी रहे है और देख भी रहे है,
  • आज के इस गला काट प्रतिस्पर्धा के दौर पर में, अपने दैनिक जीवन में होने वाली दबाव, तनाव और उदासीनता को Virtual Reality के उपयोग से दूर करके सुखद और ऊर्जावान महसूस कर सकते है
  • इस तकनीक के प्रयोग से हम, जीवन के प्रति एक नये नजरिये को अपना पाते है और बेहतर ढंग से अपना जीवन को जी पाते है।

Virtual Reality की हानियां कौन – कौन सी है?

वर्चुअल रिएलिटी से होने वाली सभी हानियों को हम, इन बिंदुओं की मदद से प्रस्तुत करना चाहते है जो कि, इस प्रकार से हैं-

  • Virtual Reality के अत्यधिक प्रयोग से आप भयानक स्तर पर दबाव, तनाव, अकेलेपन के साथ – साथ व्याकुलता के शिकार हो सकते है,
  • Virtual Reality के लगातार प्रयोग से हम, खुद को असली दुनिया से कटा हुआ महसूस करते है,
  • हमारे भीतर बड़े पैमाने पर चिडचिड़ापन आने लगता है और हम, अकेला रहना पसंद करने लगते है,
  • Virtual Reality के अधिक प्रयोग से हम, अपने लक्ष्य के प्रति एकाग्र या समर्पित नहीं हो पाते है जिसकी वजह से हम, आभासी जीवन में, जीते हुए अपने असल जीवन में, असफल हो जाते है और
  • Virtual Reality का सबसे बड़ी दुष्परिणाम ये है कि, इसके तहत दिखाई जाने वाली छवियों, रंगो, प्रकाशो व अन्य रासायनिक चीजों के मिश्रण से हमारी आंखों पर बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ता है जिसकी वजह से हमें कई बार अंधेपन का भी सामना करना पड़ जाता है।

उपरोक्त दोनो बिंदुओं की मदद से हमने आपको Virtual Reality के लाभ व हानि दोनो पहूलओं के बारे में, विस्तार से बताया ताकि आप इस तकनीक का प्रयोग अपने विवेक के अनुसार कर सकें।

ये भी पढ़ें:

बिटकॉइन क्या है और कैसे खरीदें?

मोबाइल पर Free में IPL 2021 कैसे देखे?

Blockchain Technology क्या है और ये कैसे काम करती है?

Free Fire Me Free Diamond Kaise Le?

Online Business ideas in Hindi 2021

सारांश

हम पल पल बदलते विश्व में जी रहे है जहां रोज नये नये आविष्कार हो रहे है और इसी का सबसे ताजा उदाहरण है Virtual Reality जो कि हमारे सामने एक आभासी दुनिया प्रस्तुत करता है जिसका अस्तित्व नहीं है लेकिन इसे हमें, प्रत्यक्ष तौर पर महूसस कर पाते है. इसीलिए इसका प्रयोग बड़े पैमाने पर फिल्मो, गेमो और अन्य क्षेत्रो में, किया जाता है जिससे ना केवल हम सुखद महसूस करते है बल्कि खुद को रोमांचि भी पाते है।

लेकिन इसका अत्यधिक प्रयोग हमें ना केवल चिडचिड़ा बनाता है बल्कि अपने दैनिक जीवन व समाज से काटते हुए हमें विनाश के कगार पर लाकर खड़ा कर देता है इसलिए हमें इसका व इसकी से जैसे अन्य तकनीका का प्रयोग करना चाहिए लेकिन अपने विवेक के अनुसार।

अन्त हम आशा करते है कि आपको हमारा ये लेख पंसद आया होगा जिसके लिए आप हमारे इस लेख को शेयर करेंगे और साथ ही साथ अपने विचार व सुझाव कमेंट करके हमें बतायेगे।

Leave a Comment